अनुवाद क्या है? What Is The Translation - WebBalaji

Latest Post

मानव शरीर के बारे में 100+ रोचक तथ्य | Facts About Human Body चीन के बारे में 21+ मज़ेदार तथ्य | Interesting Facts About China
Spread the love
What is The Translation
What is The Translation

अनुवाद क्या है? What is The Translation

अनुवाद की परिभाषा – अनुवाद का शाब्दिक अर्थ है किसी के कहने के बाद कहना। किसी कथन का अनुवर्ती कथन या पुन रुक्ती।

वर्तमान में एक भाषा में कहीं हुई बात को दूसरी भाषा में कहना या बतलाना अनुवाद कहलाता है। अनुवाद से तात्पर्य एक भाषा की सामग्री को दूसरी भाषा में प्रस्तुत करना है।

J.C. केताफर्ड के अनुसार – “अनुवाद एक भाषा (स्त्रोत भाषा) की मूल पाठ सामग्री का दूसरी भाषा (लक्ष्य भाषा) में समानार्थक मूल पाठ सामग्री का स्थानापन्न है।”

अनुवाद कैसे किया जाता है?

अनुवाद में मुख्य रूप से निम्न बिंदुओं को आधार बनाया जाता है –

  • अनुवाद में मुलक्रति के विचारो का पूर्ण अंतरण होना चाहिए।
  • लेखन शैली और विधि लगभग वहीं होना चाहिए जो मूलक्रती की हो।
  • अनुवाद में मूलकृती के समस्त गुण एवं सहजता होना चाहिए।

अनुवाद कितने प्रकार के होते है? (Types of Translation)

अनुवाद (Translation) मुख्य रूप से तीन प्रकार के होते है

  • शब्दानुवादए
  • भावानुवाद
  • रूपांतर

• शब्दानुवाद किसे कहते हैं (what is the word translation)

शब्दानुवाद में मूल भाषा या स्त्रोत भाषा की शब्द योजना, वाक्य विन्यास आदि का दूसरी भाषा या लक्ष्य भाषा में लगभग ज्यो का त्यों अनुवाद किया जाता है। इसे शाब्दिक अनुवाद कहते है।

• भावानुवाद किसे कहते है?

इसमें मूल भाषा या स्त्रोत भाषा की शब्द योजना वाक्य विन्यास आदि को दृष्टि में न रखकर शब्दो एवं वाक्यों में निहित मूल भाव पर विशेष ध्यान दिया जाता है और अनुवाद किया जाता है। इसे छाया नुवाद भी कहते है।

• रूपांतर अनुवाद किसे कहते है?

रूपांतर अनुवाद में अनुवादक मुलभाषा या स्त्रोत के समस्त कथन को दूसरी भाषा या लक्ष्य में अनूदित करने के लिए उसमे यथेष्ठ परिवर्तन कर देता है।

इस प्रकार रूपांतर करते समय अनुवादक की रुचि हावी हो जाती है।

Read More Articles

>>तत्सम शब्द किसे कहते हैं? इसके प्रकार और उदाहरण?

>>मुहावरे का अर्थ – (Idioms) Muhavare in Hindi?

>>कंप्यूटर फिल्ड में इंटरनेट की क्या भूमिका है?

>>नंबर सिस्टम क्या होता हैं? बाइनरी नंबर सिस्टम इन हिंदी

अनुवाद के उद्देश्य क्या है?

अनुवाद के तीन प्रमुख उद्देश्य है

  • दूसरी भाषा के साहित्य से अपनी भाषा के साहित्य को समृद्ध करना।
  • दूसरी भाषाओं की शैलियों, मुहावरों, दार्शनिक तथ्यों, वैज्ञानिकों एवं तकनीकी ज्ञान की प्राप्ति।
  • विचार विनिमय।

अनुवादक किसे कहते है?

अनुवादक की परिभाषा – अनुवाद करने वाले को अनुवादक कहते हैं।

एक अच्छे अनुवादक में निम्नलिखित गुण होने चाहिए –

  • एक अच्छे अनुवादक को स्त्रोत भाषा और लक्ष्य भाषा दोनों का अच्छा ज्ञान होना चाहिए। उस स्त्रोत भाषा की प्रकृति और परिवेश तथा उनकी संस्कृति एवं ऐतिहासिक पृष्टभूमि से पूर्णतः परिचित होना चाहिए।
  • एक अच्छे अनुवादक की अभिव्यक्ति, सुबोध, प्रांचल, भावपूर्ण और प्रवाहमय होना चाहिए।
  • उसमे स्त्रोत भाषा में कथित अभिव्यक्ति को ज्यो की त्यों लक्ष्य भाषा में प्रस्तुत करने की योग्यता, दक्षता एवं प्रतिभा होनी चाहिए।
  • अच्छे अनुवादक को यह प्रत्यन करना चाहिए कि मूल रचना की शैली सुरक्षित रहे। अनुवाद की भाषा या लक्ष्य भाषा यथा संभव स्त्रोत भाषा की प्रकृति के अनुरूप होनी चाहिए।
  • उस स्त्रोत और लक्ष्य भाषा दोनों की संरचना का पूर्ण व्यावहारिक ज्ञान होना चाहिए।

अनुवाद की क्या आवश्यकता है?

संसार में सैकड़ों समुदाय है। इनके व्यवहार की सैकड़ों भाषाएं भाषाएं है। इन मानव समुदायों में एक दूसरे को समझने और निकट आने की दिशा में इनकी अलग अलग भाषाएं बड़ी बाधा उपस्थित करती है।

इस बाधा को दूर करने और एक मानव समुदाय की ज्ञान विज्ञान कि उपलब्धि को सम्पूर्ण मानवता के लिए सुलभ कराने का महत्वपूर्ण कार्य अनुवाद के द्वारा है संप्पन होता है।

अनुवाद के द्वारा एक भाषा बोलने और जानने वाले, दूसरी भाषा बोलने और जानने वालो तक अपने भावो और विचारो का संप्रेषण कर सकते है।

अनुवाद का अभ्यास लेखक बनने की प्रथम सीढ़ी है। साधारण लोग जब साहित्य क्षेत्र में प्रवेश करते है, तब उन्हें पहले प्राय अनुवाद से ही आरंभ करना पड़ता है। अच्छे ग्रंथो का अनुवाद करने से उत्तम रचना शैली के बहुत से तत्वों का ज्ञान उपन्यास हो जाता है

अनुवाद की उपयोगिता

आजकल किसी नई भाषा को आत्मनिर्भर बनने के लिए दूसरी भाषाओं का सहारा लेना पड़ता है। उसके लिए अनुवाद की बड़ी उपयोगिता है।

अनुवाद की सहायता से पाठकों का ज्ञान बढ़ता है और उनकी आंखे खुलती है। वे अच्छे और मौलिक ग्रंथ लिखने के लिए प्रेरित होते है। स्वतंत्र साहित्य का सृजन होता है। जब भाषा पूर्ण रूप से तुष्ट तथा साहित्य परम उत्पन्न हो जाता है, तब भी अनुवादो की आवश्यकता बनी ही रहती।

अन्याय भाषाओं में जो अनेक उत्तमोत्तर ग्रंथ प्रकाशित होते है, उनके अनुवाद भी लोगो को अपनी भाषा में प्रकाशित करने पड़ते है। यदि ऐसा न हो तो एक भाषा के पाठक दूसरी भाषाओं के अच्छे अच्छे ग्रंथो और उनमें प्रतिपादित विचारो तथा सिद्धांतो के ज्ञान से वंचित ही रह जाएंगे।

आधुनिक युग में अनुवाद का महत्व और अधिक बढ़ गया है। आज अनुवाद को एक कला माना जाता है। आधुनिक स्वतंत्र भारत में एकता स्थापित करने में उसका स्थान महत्वपूर्ण माना जाने लगा है। वह संस्कृति के प्रसार तथा समृद्धि का बहुत बड़ा साधन बन गया है।

वह समाजो और देशों की सीमाओं को जोड़कर सबको एक करने और विविधता में एकता लाने का बहुत बड़ा साधन समझा जाने लगा है। अब तो अनुवाद के द्वारा राजनीतिक विचारो और सिद्धांतो के प्रचार में भी सहायता ली जाने लगी है।

चीन, रूस, अमेरिका आदि बड़े देशों में अपना साहित्य दूसरे देशों की भाषाओं में और निष्ठा से तथा व्यापक स्तर पर किया जाता है।

संक्षेप में, आज अनुवाद ऐसी आवश्यकता बन गया है, जो विश्व के विविध मानव समुदायों को परस्पर जोड़ने और ज्ञान विज्ञान को मानव मात्र के लिए सुलभ कराने का एक मात्र साधन बन गया है।

Read More Articles

>>कंप्यूटर में कौन कौन से विशेषताएं होती है?

>>कंप्यूटर क्या है? कंप्यूटर के विभिन्न क्षेत्रों में उपयोग?

>>कंप्यूटर में booting प्रोसेस क्या होता है?

>>कंप्यूटर वोलेटाइल मैमोरी क्या होती है?

>>मेमोरी क्या है? मेमोरी कितने प्रकार की होती है?

>>कंप्यूटर कंट्रोल यूनिट क्या होता है?

>>कंप्यूटर के विकास का इतिहास क्या है?

मोबाइल से घर बैठे यूट्यूब चैनल कैसे बनाए?

>>Analog और Digital Signal क्या होते है?

हमें पूरी उम्मीद है कि हमारी यह पोस्ट Journalism – पत्रकारिता किसे कहते हैं? Journalism hindi meaning, आपको बहुत पसंद आई है। हमारी पोस्ट का उद्देश्य अपने रीडर्स को एक ही आर्टिकल में पूरी जानकारी उपलब्ध कराना होता है, जिससे उन्हें अन्य आर्टिकल को पढ़ने की जरूरत न पड़े।

हमारी इस पोस्ट Journalism – पत्रकारिता किसे कहते हैं? Journalism hindi meaning, में दि गई जानकारी आपको कैसी लगी, हमें Comment Box में कमेंट करके जरूर बताए और यदि आपको हमारी इस पोस्ट से कुछ भी सीखने को मिला है तो आप हमारे इस आर्टिकल को अपने सोशल मीडिया जैसे – Facebook, WhatsApp, Twitter आदि से Share करे।

Leave a Reply