What Is Balanced Diet – संतुलित आहार क्या होते है/2021

Spread the love

संतुलित आहार – What Is Balanced Diet – आज शायद ही ऐसा कोई व्यक्ति होगा, जिसका रोजाना का खान-पान बिल्कुल स्वस्थ तरीके से होता हो। आज स्वास्थ्य कौन नहीं रहना चाहता है लेकिन क्या आप जानते है आज के समय में आपके शरीर के लिए संतुलित आहार (Balanced Diet) लेना कितना जरूरी है, यदि आप What Is Balanced Diet – संतुलित आहार क्या है, संतुलित आहार किसे कहते है Balanced Diet in Hindi के बारे में जानकारी ढूंढ रहे है तो इस आर्टिकल को पूरा पढ़े।

संतुलित आहार क्या है (What Is Balanced Diet)

ऐसे आहार जिनमे हमारे शरीर के लिए जरूरत के सभी पोषक तत्व उपस्थित हो संतुलित आहार के अंतर्गत आते हैं। ये आहार हमारे शरीर की सभी जरूरतों को पूरा करने के साथ साथ हमारे शरीर को स्वस्थ और निरोगी रखने के लिए आवश्यक होते है।

जीवो शरीर को स्वास्थ्य बनाए रखने के लिए आपका संतुलित आहार (Balanced Diet) का सेवन करना बेहद जरूरी है।

संतुलित आहार (Balanced Diet) शरीर को स्वस्थ बनाने के अलावा मोटापा काम करने और कई विभिन्न बीमारियों को ठीक करने में मदद करता है।

संतुलित आहार क्या होते है - What Is Balanced Diet 2021

सही Balanced Diet का सेवन नहीं करने के कारण कुपोषण की समस्या सामने आने लगती है इसके अलावा शरीर में कई बीमारियां होने शुरू हो जाती है।

Read More Articles

Oats क्या होते है? ओट्स खाने के फायदे कौन कौन से है?

संतुलित आहार (Balanced Diet) किसे कहते है

हम प्रतिदिन जो भी अनाज, खाद्य पदार्थ भोजन के रूप में खंटे है उसे आहार कहते है इसका मतलब ( Meaning ) ऐसे कोई भी खाद्य पदार्थ जो जल, प्रोटीन, वसा से बने होते है जिसे हम जीवन जीने के लिए कहते है उसे हम आहार या भोजन कहते है।

Balanced Diet (संतुलित आहार) ऐसे खाद्य पदार्थ को कहते है जिनमे भरपूर मात्रा में हमारे शरीर के लिए आवश्यक पदार्थ उपस्थित होते है।

इसका मतलब ऐसे पदार्थ जिनमे कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, विटामिन, शर्करा, वसा, खनिज लवण अन्य सभी पोषक तत्व मौजूद हो संतुलित आहार कहलाते है। जो हमारे शरीर के विकास ओर स्वास्थ्य रहने के लिए बेहद जरूरी घटक है।

संतुलित आहार लेना क्यो जरूरी है

संतुलित आहार शरीर में पाचन क्रिया द्वारा हमारे शरीर के रक्त में मिलकर ऊर्जा पहुंचता है जो हमारे शरीर के वृद्धि और विकास के लिए आवश्यक होती है।

संतुलित आहार को किसी भी उम्र के व्यक्ति ले सकते है लेकिन किसी भी चीज का आवश्यकता से ज्यादा उपयोग करना बहुत ही खतरनाक होता है।

इसे हम वसा के उदाहरण से भी समझ सकते है –

वषा का मुख्य स्रोत चावल, दाले, दूध, अंडे, आलू सभी होते है इनका संतुलित संतुलित सेवन करने से कोई नुक्सान नहीं है लेकिन आवश्यक से ज्यादा खाने से मोटापा, सांस की समस्या, सिर दर्द, और कई खतरनाक हो सकती है

इसका मतलब किसी भी पदार्थ को आवश्यकता से ज्यादा नहीं खाना चाहिए। संतुलित आहार का संतुलित सेवन करने से हमारा शरीर स्वस्थ्य रहता है लेकिन ज्यादा भोजन करने से इसके परिणाम उल्टे भी जो जाते है।

संतुलित आहार के मुख्य तत्व, उनके स्त्रोत और कमी से होने वाले रोग

हमरे शरीर के वृद्धि, विकास और शरीर को स्वास्थ्य रखने के लिए संतुलित आहार बहुत जरूरी है।

संतुलित आहार में ऐसे सभी तत्व मौजूद होते है जो हमारे शरीर को बीमारियों से लडने में मदद करते है।

संतुलित आहार के मुख्य तत्व निम्नलिखित है

  • कार्बोहाड्रेट
  • वसा
  • प्रोटीन
  • विटामिन
  • खनिज लवण
  • कैशियाम, मैग्नीशियम,आयरन
  • जल अन्य सभी।

कार्बोहाइड्रेट –

कार्बोहाइड्रेट ऐसे कार्बनिक यौगिक होते है जिनमे कार्बन, हाइड्रोजन और अक्सिजन की मात्रा उपस्थित होते है।

कार्बोहाइड्रेट हमारे शरीर में ऊर्जा के मुख्य स्त्रोत होता है। उह जोवों के शरीर में रचनात्मक तत्वों का निर्माण करता है। कार्बोहाइड्रेट स्वाद में मीठे होते है, इसका इस्तेमाल भोजन के रूप में करने से यह नॉनवेज की तुलना में जल्दी पाचन में आ जाता है।

कार्बोहाइड्रेट के स्त्रोत

चावल, अनाज, दाल, मक्का, गेहूं, ज्वार, हरी सब्जियों में कार्बोहाइड्रट पर्याप्त मात्रा में मिलते है।

इसके अलावा शहद, शक्कर, चुकंदर, तरबूज, नाशपाती, बेर, अंगूर, केला, अंजीर में भरपूर मात्रा में पाए जाते है।

कार्बोहाइड्रट कमी से होने वाले रोग

वजन बढ़ना (मोटापा) मुख्य बीमारी है, इसके अलावा मधुमेह, अतिसार, कुपोषण सभी कार्बोहाइड्रेट की कमी से होने वाली बीमारियों के अन्तर्गत आते है।

वसा

वसा को चिकनाई भी कहते है। यह हमारे शरीर को क्रियाशील बनाए रखने में सहायता करता है।

वसा सजीव के शरीर के लिए बहुत ही उपयोगी होता है लेकिन इसका अत्यधिक उपयोग करने से बहुत हानिकारक परिणाम भी होते है।

वसा में कार्बन 71%, हाइड्रोजन 11%, आक्सीजन 10% होता है।

वसा प्राप्ति के स्त्रोत

दूध, दही, घी, मक्खन, मूंगफली, सोयाबीन, जैतून, सरसो, काजू, अलसी, अंडे, चिकन, पनीर महुआ में पाया जाता है।

सके अलावा नरियाल, बिस्कुट, मलाई, रसगुल्ला ,(गुलाबजामुन), सभी तेलो में भरपूर मात्रा में पाया जाता है।

कमी से होने वाले रोग

आमाशय की गतीशीलता काम हो जाती है। इसके अलावा भूख का काम लगाना, शरीर की स्किन का रूखा होना सभी वसा की कमी के लक्षण है।

प्रोटीन

प्रोटीन अमीनो अम्ल का बहुलक होता है जो पेप्टाइड बंधो द्वारा श्रंखला में जुड़े होते है।

प्रोटीन हमारे शरीर के लिए अति आवश्यक होते है।

प्रोटीन का जल अपघटन करने पर पॉलीपेपटाईट प्राप्त होता है।

समय के साथ साथ शरीर में प्रोटीन की जरूरत कम हो जाती हैं लेकिन योवावस्था मेप्रोटिं शरीर के वृद्धि और विकास में एक जरूरी आहार होता है।

प्रोटीन के स्रोत

हमारे स्वस्थ शरीर के लिए प्रतिदिन 35g से 40g प्रोटीन लेना बेहद जरूरी होता है।

स्त्रोत – मूंगफली, दाल, मटर, चना, सोयाबीन, मांस, मछली, अंडे, दूध, बादाम, मक्का आदि।

प्रोटीन की कमी से होने वाले रोग

  • शरीर के जोड़ो में दर्द।
  • इम्यून सिस्टम का कमजोर हो जाना।
  • थकान।
  • घाव भरने में देरी।
  • बालों का झड़ना।
  • नाखूनों का सफेद होना।
  • सिरदर्द।

विटामिन

विटामिन हमारे शरीर के लिए एक महत्वपूर्ण पोषक तत्व होता है जो हमारे शरीर। को स्वस्थ बनाए रखने के लिए बहुत ही जरूरी होता है।

विटामिन प्राय कार्बनिक पदार्थ के समूहों में से एक है जो प्राकृतिक खाद्य पदार्थो में पर्याप्त मात्रा में मौजूद होता है।

विटामिन प्राप्ति के स्रोत

मक्का, केला, पालक, कंद, गाजर, अनाज, सूरजमुखी के बीज, शतावार, फूलगोभी, आलू, अंडे, मशरूम, दूध, दही, घी, पनीर, मांस, मछली, बादाम, सभी तेल, गेहूं, हरी पत्तेदार सब्जियां आदि में विटामिन पर्याप्त मात्रा में मिलता है।

विटामिन की कमी से होने वाले रोग

  • रतोधी
  • बेरीबेरी
  • वर्निक कोर्साकॉर्क मेगलोब्लास्टिक एनीमिया
  • रिकेट्स
  • शरीर की हड्डियों का कमजोर होना
  • आंत में सूजन
  • परिधिय न्यूरोपैथी
  • डायरिया
  • महिलाओं को गर्भावस्था में परेशानी।

संतुलित आहार लेने के फायदे (Benefits of Balanced Diet)

  • शरीर में ऊर्जा का स्रोत।
  • शारीरिक बीमारियों को कम करता है।
  • शारीरिक गतिविधियों को सुचारू रूप से चलता है।
  • मोटापा का करने में सहायक।
  • शरीर के पाचन तंत्र को संतुलित रखता है।
  • शारीरिक कमजोरी को कम करता है।
  • शरीर के वृद्धि और विकास को बढ़ाता है।
  • उचित हेल्थी डायट लेने से शरीर की स्किन मुलायम (soft) और सुंदर (Beautiful) होती है।
  • Balanced Diet और नियमित व्याम करने से मानसिक शांति मिलती है।
  • शरीर में तन्दरूस्ती, फुर्ती और ताकत का अनुभव होता है।
  • नींद पूरी होती है।

Read More

Oats Meaning In Hindi? ओट्स क्या होते है?

महिला एवम् पुरुष के लिए सामान्य Dite Chart

खाद्य सामग्रीमात्रा (ग्राम में)
अनाज350g
हरी पत्तेदार सब्जिया150g -200g
फल50g – 100g
दूध200 – 250 मिलीलीटर
तेल30 – 50 मिलीलीटर
दाल60g – 80g
जड़े और कंद100g
Balanced Diet Chart

Balanced Dite की जायदा जानकारी के लिए आप विकिपडिया वेवसाईट को पढ सकत है।

विकिपीडिया वेवसाईट में जाने के लिए इस लिंक को क्लिक करे

दोस्तो आपको हमारा यह आर्टिकल संतुलित आहार क्या होते है – What Is Balanced Diet कैसा लगा हम comment करके जरूर बताए। यदि आपका इस आर्टिकल से संबंधित कोई सवाल है तो हमसे जरूर पूछे, हम आपके सभी सवालों के जवाब देने को पूरी कोशिश करेंगे।

यदि आपको हमारा यह आर्टिकल What Is Balanced Diet पसंद आया है तो इसे अपने सोशल मीडिया अकाउंट जैसे Facebook, WhatsApp, Twitter, Instagram में शेयर करे जिससे लोगो को हमारे इस आर्टिकल संतुलित आहार क्या होते है – What Is Balanced Diet में दि गई जानकारी मिल सके।

Add a Comment