Website बनाते समय कौन कौन सी सावधानियां रखनी चाहिए | Website Tips In Hindi - WebBalaji

Latest Post

मानव शरीर के बारे में 100+ रोचक तथ्य | Facts About Human Body चीन के बारे में 21+ मज़ेदार तथ्य | Interesting Facts About China
Spread the love
Website Tips In Hindi

नमस्कार दोस्तो स्वागत है आपका हमारी इस पोस्ट में Website बनाते समय कौन कौन सी सावधानियां रखनी चाहिए | Website Tips In Hindi?

क्या आप जानते है Website बनाते समय कौन कौन सी सावधानियां रखनी चाहिए (Website Tips In Hindi) यदि नहीं और आप भी Website से जुड़ी जानकारी ढूंढ रहे है तो हमारे इस आर्टिकल को अंत तक पूरा पढ़े।

तो चलिए बिना देरी करे जानते है Website बनाते समय कौन कौन सी सावधानियां रखनी चाहिए ?(Website Tips In Hindi)

Website बनाते समय कौन कौन सी सावधानियां रखनी चाहिए | Website Tips In Hindi

Website को बनाने से पहले कुछ बिंदुओं पर विशेष ध्यान देना चाहिए। जिस तरह एक Building को बनाने से पहले उस Building की मुख्य चीजों के बारे में विश्लेषण किया जाता है जिससे कि Building सही तरह से बने जिसकी सभी व्यक्ति प्रशंसा करे।

इसी तरह website को बनाने से पहले इसके बारे में विश्लेषण करना आवश्यक है जिससे की इसको प्रयोग करने वाले Users वेब साइट की प्रशंसा करे।

Website बनाते समय निम्नलिखित मुख्य विंदुओ पर विशेष ध्यान देना चाहिए

  • आडिएंस को अपना टारगेट डिफाइन करना (Define your Target Audience)
  • अपने Concepts तथा Materials को Organize करे।
  • डायरेक्ट्री स्ट्रक्चर को Create करना।
  • वेबपेज का स्केच करना (Create a Sketch of the webpage)
  • एक सही लुक को विकसित करना (Develop a good look)

• आडिएंस को अपना टारगेट डिफाइन करना (Define your Target Audience)

आपको यह स्पष्ट करना चाहिए कि आप अपनी Site Surfer को इसके माध्यम से क्या मैसेज देना चाहिए?

इस उद्देश्य को पूरा करने के लिए आपको निम्नलिखित बिंदुओं को Consider करने की आवश्यकता है-

  • Viewer’s के Background तथा पहले अनुभव के बारे में जानकारी होना।
  • उनके इंटरेस्ट्स तथा उनके Tasks।
  • ये आपकी Site को क्यो Visit करे। इसका क्या कारण है?
  • सामान्यतः उनकी आयु क्या है?
  • वे अपने वेब अनुभव के अनुसार क्या चाहते है?

• अपने Concepts तथा Materials को Organize करे

आपको अपनी वेब साइट को Create करने के उद्देश्य स्पष्ट करना चाहिए। वेब साइट को Create कर्नेका उद्देश्य यदि यह है जैसे

  • सूचना पहुंचना
  • एक product को प्रमोट करना।
  • Audiance को शिक्षित करना।
  • रिसर्च करना तथा रिपोर्ट करना।
  • Audiance का मनोरंजन करना।

Website को Create करने का आपका Vision डिफाइंड3 होना चाहिए तथा मैनेजमेंट को स्वीकार योग्य होना चाहिए। यदि आप किसी Orgnaigation के लिए काम कर रहे हो और एक बार goals परिभाषित हो जाए ।

तो सभी material को Organize करे। जिन पर आप कार्य करना चाहते है, तो दोनों Existing documents तथा Picture को एक साथ रखना चाहिए।

उस मैसेज के बारे में भी सोचना चाहिए जो आप website के माध्यम से देना चाहते है वह पूरा हो रहा है या नहीं।

• डायरेक्ट्री स्ट्रक्चर को Create करना

Website बनाते समय यदि फाइलों कि संख्या अधिक है तो इन सभी फाइलों की एक जगह Store करने के। लिए एक डायरेक्ट्री Create करनी चाहिए जिसके अंदर सभी फाइलों को save करना चाहिए।

लेकिन यदि फाइल विभिन्न प्रकार की हो जैसे Image File, Picture Files, Sound Files इत्यादि, तो इन सभी फाइलों को अलग अलग Store करने के लिए Sub directories Create करनी चाहिए।

• वेबपेज का स्केच करना (Create a Sketch of the webpage)

फाइलों को Store करने के लिए डायरेक्ट्री structure को बनाने के पश्चात यदि इसे ग्राफिकल रूप में देखना चाहते है तो इसका Sketch बना लेना चाहिए।

जब फाइलों की संख्या ज्यादा हो जाती है तो इन्हे समझना काफी मुश्किल हो जाता है, तो इन्हे सही रूप से समझने के लिए इनका Graphical Structure डिजाइन कर लेना चाहिए।

• एक सही लुक को विकसित करना (Develop a good look)

सही Look का मतलब यह नहीं है कि आपकी site का Over All Representation यह Colors, Graphics, Text type आदि का Combination होता है।

Website का सही look को विकसित करने के लिए आप निम्नलिखित बिंदुओं को ध्यान में रख सकते है –

  • Space तथा Balance सब कुछ Proportianate तथा Proper होना चाहिए।
  • Colour website के रंग आंखो के अनुसार सुहावने होने चाहिए।
  • Font type and Size Text का Font Type तथा आकार Comfortable होने चाहिए,जिसे आसानी से पढ़ा जा सके।
  • Textures बैकग्राउंड grafics या taxture Annoying हो सकते है जब Text को पढ़ा जाए।
  • Shapes Shapes Site को Distinct बनाती हैं इसलिए सुहावनी Shapes को Include करना चाहिए।
  • Special Effects वेबसाइट को dision करने में Animation का महत्वपूर्ण योगदान होता है, इसलिए Websites में Special Effects को Include करना चाहिए।
  • Comsistency Single Color स्कीम Consistency को Achieve करने का अच्छा तरीका है जैसे दिल्ली में लाल किला stone के रंग की Consistency को रखता है।

इस तरह website को बनाते समय उपरोक्त बिंदुओं को ध्यान में रखना चाहिए जिससे कि वेब साइट user फ्रेंडली बने।


Read More Articles

>>Data Transmission Protocol क्या है?

>>इंटरनेट क्या है? इंटरनेट के प्रकार?

>>कंप्यूटर में कौन कौन से विशेषताएं होती है?

>>कंप्यूटर क्या है? कंप्यूटर के विभिन्न क्षेत्रों में उपयोग?

>>कंप्यूटर में booting प्रोसेस क्या होता है?

>>कंप्यूटर वोलेटाइल मैमोरी क्या होती है?

>>मेमोरी क्या है? मेमोरी कितने प्रकार की होती है?

>>कंप्यूटर कंट्रोल यूनिट क्या होता है?

>>कंप्यूटर के विकास का इतिहास क्या है?

>>मोबाइल से घर बैठे यूट्यूब चैनल कैसे बनाए?

>>www क्या है?

>>Analog और Digital Signal क्या होते है?

>>कंप्यूटर कितने प्रकार के होते है?

>>Intranet क्या है?

>>कुकीज़ क्या है?

>>वेबसाइट्स को खोजने के विभिन्न तरीके – How to find Websites?

मुझे पूरी उम्मीद है कि आपने मेरी Post Website बनाते समय कौन कौन सी सावधानियां रखनी चाहिए | Website Tips In Hindi को पूरा पढ़ लिया है और आपके दिमाग में जो भी Website से जुड़े उन सभी सवालों के जबाब आपको इस आर्टिकल में मिल गए है।

मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है कि जो भी Readers मेरी पोस्ट पढ़े तो उन्हें एक ही आर्टिकल में सभी सवालों के जबाव मिल जाए, जिससे उन्हें अन्य आर्टिकल को पढ़ने में समय बर्बाद न करना पड़े।

दोस्तो आपको मेरी यह पोस्ट Website बनाते समय कौन कौन सी सावधानियां रखनी चाहिए | Website Tips In Hindi कैसी लगी मुझे comment बॉक्स में comment करके जरूर बताए और यदि मेरी इस पोस्ट से आपको कुछ भी सीखने को मिला है, तो इस पोस्ट को आप अपने सोशल मीडिया जैसे – Facebook, WhatsApp, Twitter आदि में अपने दोस्तो के साथ शेयर करे।

Leave a Reply