Types Of Computer In Hindi । कंप्यूटर कितने प्रकार के होते हैं? 2021 - WebBalaji

Latest Post

www क्या है ? What is www in Hindi 2022 Internet के द्वारा संचार क्रांति में योगदान – Services of Internet
Spread the love

Types Of Computer In Hindi । कंप्यूटर कितने प्रकार के होते हैं? 2021. WebBalaji.com में आपका स्वागत है।

आज की इस आर्टिकल में आप जानेंगे Types Of Computer In Hindi । कंप्यूटर कितने प्रकार के होते हैं? 2021।  मुझे उम्मीद है, शायद ही दुनिया मे कोई ऐसा व्यक्ति नहीं होगा जिसने अब तक Computer का नाम नही सुना हो। आज सभी को Computer की बेसिक नॉलेज सबको होती है, लेकिन क्या आप इस Computer या Electronic Machine को सिर्फ घर और दफ्तर में इस्तेमाल होने वाले एक PC की तरह देखते है?

हो सकता है, आपके लिए Computer की परिभाषा बहुत छोटी हो परन्तु एक बात आपको जान लेनी चाहिए कि यह सिर्फ मेज पर रखी एक डिवाइस नही है, बल्कि आज की मॉडर्न टेक्नोलॉजी को विकसित करने वाली एक जादुई मणि की तरह है। कंप्यूटर आज सभी के लिए एक वरदान बनकर सामने उभरा है।

Computer क्या है?

Computer एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है, जिसका उपयोग गणना करने, डेटा/इन्फॉर्मेशन को स्टोर, व्यवस्थित, और पुनःप्राप्त करने, तथा अन्य मशीनों को कंट्रोल करने के लिए किया जाता है।

Types Of Computer In Hindi

शब्द Computer इंग्लिश शब्द ‘Compute’ से लिया गया है, जिसका हिंदी मतलब है ― गणना करना है।

Read More Articles

>>मॉनिटर क्या है?

>>पर्सनल कंप्यूटर क्या होता है?

>>Printer क्या है? प्रिंटर कितने प्रकार के होते हैं?

>>Input Device & Output Device क्या है?

>>सॉफ्टवेयर क्या होते है?

>>Spreadsheet क्या होता हैं?

>>Analog और Digital Signal क्या होते है?

>>Computer FAT क्या है?

>>ऑप्टिक फाइबर केबल क्या होती है?

आसान भाषा में Computer, यूजर द्वारा दिए गए निर्देशों (Instructions) के आधार पर प्रोसेसिंग करके परिणाम उत्पन्न करता है। इसके अलावा Computer की स्टोरेज डिवाइस में डेटा को लंबे समय तक स्टोर किया जा सकता है, ताकि दुबारा जरूरत पड़ते ही उसे प्राप्त किया जा सके।

Types Of Computer In Hindi । कंप्यूटर कितने प्रकार के होते है?

कंप्यूटर को Direct वर्गीकृत नहीं कर सकते इसलिए हम कंप्यूटर को इस आर्टिकल में निमनलिखित आधार पर वर्गीकृत करेंगे

  • अनुप्रयोग के आधार पर
  • उद्देश्य के आधार पर
  • आकार के आधार पर
Types Of Computer In Hindi

अनुप्रयोग के आधार पर कंप्यूटर के प्रकार (Types Of Computer Based On Application )

Types Of Computer In Hindi

अनुप्रयोग के आधार पर कंप्यूटर निम्नलिखित प्रकार के होते है

  • Analog Computer (एनालॉग कंप्यूटर)
  • Digital Computer (डिजिटल कंप्यूटर)
  • Hybried Computer (हाइब्रिड कंप्यूटर)

1. Analog Computer (एनालॉग कंप्यूटर)

“वे कंप्यूटर जो भौतिक मात्राओं जैसे दाब, लंबाई, तापमान को व्यक्त करते हैं, Analog Computer (एनालॉग कंप्यूटर) कहलाते है”।

Types Of Computer In Hindi

Analog Computer (एनालॉग कंप्यूटर) किसी भी राशि की परिणाम के तुलना के आधार पर करते हैं। Analog computer मुख्य रूप से विज्ञान और इंजीनियरिंग के क्षेत्र में प्रयोग किए जाते है।

ऐसा इसलिए किया जाता है क्योंकि इन क्षेत्रो में मात्राओं का अधिक प्रयोग किया जाता है। Analog Computer (एनालॉग कंप्यूटर) केवल अनुमानित परिणाम ही देते है। Analog Computer (एनालॉग कंप्यूटर) से 100% शुद्ध परिणाम प्राप्त नहीं होते है।

2. Digital Computer (डिजिटल कंप्यूटर)

“ये ऐसे कंप्यूटर जो अंको की गणना करते है Digital Computer (डिजिटल कंप्यूटर) कहलाते है”। डिजिटल कंप्यूटर केवल दो अंक 0 और 1 की पद्धति पर आधारित है। यह कंप्यूटर डाटा और प्रोग्राम को 0 और 1 में परिवर्तित करके उनको इलेक्ट्रॉनिक रूप में ले आता है। इन कंप्यूटरों का उपयोग मुख्यत व्यापार के क्षेत्र में किया जाता है।

यदि इलेक्ट्रॉनिक घड़ी या कैलकुलेटर को ध्यान से देखे तो इसमें बनने वाले सभी अंक डिजिटल पद्धति पर आधारित होते है। Digital Computer (डिजिटल कंप्यूटर) में सभी अंक 8 की संख्या पर आधारित होते है, क्योंकि केवल 8 ही ऐसी संख्या है जिनमे विभिन्न भागों को प्रदर्शित करके सभी अंकों का प्रदर्शन किया जा सकता है। Digital Computer सभी प्रकार की सूचनाओं को द्धि अधारी अंक यानि Binary Digit में बदलकर अपना कार्य करता है।

Digital Computer (डिजिटल कंप्यूटर) की स्मृति पर विभिन्न खनो में बईनरी कोड्स 0 एवम् 1 द्वारा स्विचिंग करके किसी भी अक्षर या अंक की रचना की जाती है। जिस खाने में बाइनरी कोड 1 सिग्नल पहुंचता है तो सक्रिय हो जाता है और जिस खाने में बाइनरी कोड 0 के कारण सिग्नल नहीं पहुंचता है, वह निष्क्रिय हों जाता है।

इसी प्रकार कंप्यूटर के सर्किट द्वारा बाइनरी कोड 0 एवम् 1 के आधार पर स्विचिंग करके अक्षरों को प्रदर्शित किया जाता है। Digital Computer (डिजिटल कंप्यूटर) सभी प्रकार की गणना जैसे गुना, भाग, जोड़, घटाव को आसानी से गिनकर करता है।

Digital Computer (डिजिटल कंप्यूटर) में प्रति सेकेंड लाखो अथवा करोड़ों गणना हो सकने के कारण जटिल समस्याओं का हल भी जल्दी ही हो जाता है। Digital Computers (डिजिटल कंप्यूटर) से प्राप्त परिणाम शत प्रतिशत सत्य होते है।

Digital Computer (डिजिटल कंप्यूटर) के गुण
  • लघु आकर, काम वजन एवम् कम मूल्य।
  • अति सूक्ष्म समय में विश्लेषण।
  • 100% सत्य एवं यथार्थ परिणाम।
  • दि गई सूचना ओ का संवहन।

3. Hybried Computer (हाइब्रिड कंप्यूटर)

“वे कम्प्यूटर्स जिनमे एनालॉग और डिजिटल कम्प्यूटर्स दोनों के गुण मौजूद हो, Hybried Computer (हाइब्रिड कंप्यूटर) कहलाते है।” इन कम्प्यूटरों का प्रयोग स्टाइल बनाने के केमिकल प्रोसेस तथा मेडिकल साइंस में होता हैं।

उदाहरण _ जैसे कंप्यूटर की Analog Divice किसी रोगी के लक्षणों (तापमान, रक्तचाप) आदि को नापती है। ये परिणाम बाद में डिजिटल भाग के द्वारा अंकों में बदल जाते हैं। इस प्रकार के रोगी के स्वास्थ्य में आए उतार चड़ाव का तुरंत परीक्षण किया का सकता है।

उद्देश्य के आधार पर कंप्यूटर के प्रकार

उद्देश्य के आधार पर कंप्यूटर के दो प्रकार होते है

  • सामान्य उद्देश्य कंप्यूटर्स (General Purpose Computer)
  • विशिष्ट उद्देश्य कंप्यूटर्स (Special Purpose Computer)

आकार के आधार पर कंप्यूटर्स

आकार के आधार पर कंप्यूटर्स को निम्नानुसार बांटा गया है

  • माइक्रो कंप्यूटर (Micro Computer)
  • वर्कस्टेशन (Workstation)
  • मिनी कंप्यूटर (Mini Computer)
  • मेनफ्रेम कंप्यूटर (Mainframe Computer)
  • सुपर कंप्यूटर (Super Computer)

1. माइक्रो कंप्यूटर (Micro Computer)

इस कंप्यूटर में Micro प्रोसेसर का प्रयोग होता है एवम् इसका आकार भी अन्य कंप्यूटर्स की तुलना में काफी छोटा होता है। इसका आकार इतना छोटा होता है कि इसको टेबल अथवा अथवा ब्रीफकेस में भी रखा जा सकता है।

Types Of Computer In Hindi

यह कंप्यूटर सामान्यतः सभी प्रकार के कार्य कर सकता है, क्योंकि इसकी कार्यप्रणाली बड़े कंप्यूटर्स के समान ही होती है। इस कंप्यूटर में एक बार में केवल एक ही व्यक्ति कार्य कर सकता है।

इन कंप्यूटर्स द्वारा घर का बजट भी तैयार किया जा सकता है तथा शैक्षणिक कार्यों के लिए भी इनका प्रयोग सरलतम रूप से किया जा सकता है।

2. वर्कस्टेशन (Workstation)

वर्कस्टेशन (Workstation) कंप्यूटर आकार में माइक्रो कंप्यूटर की तरह ही होते है। लेकिन यह काफी शक्तिशाली होते हैं। इन्हें विशेष रूप से जटिल कार्यों के लिए प्रयोग में लाया जाता है।

वर्कस्टेशन (Workstation) माइक्रो कंप्यूटर्स के समान ही एक यूजर द्वारा संचालित किए जाते हैं। उनकी कार्य क्षमता मिनी कंप्यूटर के समान होती है लेकिन इन कंप्यूटर्स की कीमत माइक्रो कंप्यूटर्स से अधिक होती हैं।

3. मिनी कंप्यूटर (Mini Computer)

सन 1939 में डिजिटल इक्विपमेट कार्पोरेशन (D.E.C.) ने प्रोग्रमेबिल डाटा प्रोसेसर -1 (PDP -1) बनाकर मिनी कंप्यूटर के उत्पादन की शुरुवात की थी। इसके संशोधन माडल PDR- 8 में IC के प्रयोग से इस Computer का आकार व कीमत दोनों काम हो गए थे, जिससे मिनी कंप्यूटर का जन्म हुआ

PDR-8 का आकार एक रेफ्रिजरेटर के बराबर था इसलिए इसे मिनी कंप्यूटर कहा जाने लगा। इसमें विजुअल डिस्प्ले यूनिट (VDU) और की बोर्ड के साथ एक टेप ड्राइव और लाइन प्रिंटर होता है।

मिनी कंप्यूटर की विशेषताएं (Features Of Mini Computer)

  • ये कंप्यूटर माइक्रो कंप्यूटर से लगभग 5 से 50 गुना तेजी से कार्य कर सकते है।
  • उनकी कीमत माइक्रो कंप्यूटर से अधिक होती है।
  • मिनी कंप्यूटर का सबसे प्रसिद्ध कंप्यूटर PDR- ll है।
  • मिनी कंप्यूटर में एक से अधिक सीपीयू (C.P.U.) होते है।
  • मिनी कंप्यूटर की मेमोरी और गति देने माइक्रो कंप्यूटर से अधिक होती हैं।
  • मिनी कंप्यूटर का उपयोग आरक्षण प्रणाली में किए जाते है।
  • मिनी कंप्यूटर को पर्सनल वर्क के लिए खरीदा नहीं जा सकता।

4. मेनफ्रेम कंप्यूटर (Mainframe Computer)

मेनफ्रेम कंप्यूटर (Mainframe Computer) आकार में बहुत बड़े होते है। इनमे अत्यधिक मात्रा में डाटा पर तीव्रता से Process करने की क्षमता होती है इसलिए इनका उपयोग बड़ी कंपनियां, बैंक, रेलवे आरक्षण, सरकारी विभाग द्वारा किया जाता है।

मेनफ्रेम कंप्यूटर (Mainframe Computer) एक सेकेंड में कई करोड़ निर्देशो (Instructions) की Processing करने में सक्षम होता है। ये चौबीसों घंटे कार्य कर सकते है। इन पर सैकड़ों यूजर्स एक ही साथ कार्य कर सकते है।

मेनफ्रेम कंप्यूटर (Mainframe Computer)ए हजारों माइक्रो प्रोसेसरो का उपयोग किया जाता है। मेनफ्रेम कंप्यूटर (Mainframe Computer) को एक नेटवर्क या माइक्रो अथवा मिनी कंप्यूटर से जोड़ा जा सकता है।

मेनफ्रेम कंप्यूटर (Mainframe Computer) का उपयोग अधिकतर कंपनियों उपभोक्ताओं का ब्योरा रखने, बिल तैयार करने तथा उन्हें भेजने, कर्मचारियों का भुगतान करने आदि में करती हैं।

5. सुपर कंप्यूटर (Super Computer)

सुपर कंप्यूटर (Super Computer) मेनफ्रेम कंप्यूटर से अधिक शक्तिशाली कंप्यूटर है। सुपर कंप्यूटर (Super Computer) की Storage Capacity, Speed कंप्यूटरों की सभी श्रेणियों में सबसे अधिक होती हैं।

यही कारण है कि ये कंप्यूटर सबसे महंगे होते है तथा इनकी कीमत भी अरबों रुपए होती है। इसमें अनेक सी. पी.यू. समांतर क्रम से कार्य करते है। इस क्रिया को समांतर क्रिया कहा जाता है।

सुपर कंप्यूटर (Super Computer) का उपयोग जटिल व उच्चकोटी की गणना व प्रक्रिया करने में किया जाता है। इनका उपयोग मौसम का पूर्वानुमान लगाने में, तेल व खनिज को खोजने में, बड़ी वैज्ञानिक और शोध प्रयोगशालाओं में शोध करने में तथा अंतरिक्ष आदि में किया जाता है।

सुपर कंप्यूटर के उदाहरण – CRAY-2, CRAY XMP-24, PARAM अन्य सभी इसके उदाहरण में शामिल है

Read More Articles:

कंप्यूटर की मुख्य विशेषताएं

>>कंप्यूटर के विकास का इतिहास

कंप्यूटर का फूल फार्म

सीपीयू का फूल फार्म

यूट्यूब चैनल कैसे बनाए

Instagram Try Again Later Problem

जई के फायदे

>>Volatile Memory क्या होती है?

>>कंप्यूटर में Booting Process क्या होती है?

>>कंप्यूटर क्या है? कंप्यूटर के विभिन्न क्षेत्रों में उपयोग क्या है?

>>ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है?

>>मॉडम क्या होता है?

>>कम्युनिकेशन प्रोसेस क्या होती है ? इसके प्रकार और उदाहरण?

>>प्रोटोकॉल किसे कहते है? इसके कार्य और प्रकार ?

>>नंबर सिस्टम क्या होता हैं? बाइनरी नंबर सिस्टम इन हिंदी

>>www क्या है?


आपको हमारे इस आर्टिकल Types Of Computer In Hindi । कंप्यूटर कितने प्रकार के होते हैं? 2021 में दी गई जानकारी कैसी लगी हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके जरूर बताए। यदि आपका हमारी इस आर्टिकल में दि गई जानकारी से संबंधित कोई भी सवाल है तो हमें कमेंट करे। हमें पूरी उम्मीद है कि इस आर्टिकल में हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको पसंद आई होगी। आपका दिन शुभ हो।

Leave a Reply