कंप्यूटर के विकास का इतिहास । Generations Of Computer 1st To 5th - WebBalaji

Latest Post

जनसंचार पर टिप्पणी – Mass Communication in Hindi Internet के लाभ और हानियां – Features, Advantage and Disadvantage of Internet
Spread the love

कंप्यूटर के विकास का इतिहास । Generations Of Computer 1st to 5th (History Of Computer Development)

Generations Of Computer 1st to 5th

कंप्यूटर के विकास का इतिहास (History Of Computer Development)

कंप्यूटर के विकास को समझने के लिए इन्हें पांच पीढ़ियों में बांटा गया है। इससे हमें कंप्यूटरों की तकनीकी में हुई प्रगति की जानकारी प्राप्त करने में मदद मिलती है। प्रत्येक कंप्यूटर के मूलभूत सिद्धांत व उसके किसी भाग के नवीन रूप में विकसित होने पर एक नई पीढ़ी की शुरुवात होती है।

Generations Of Computer 1st to 5th

कंप्यूटर्स की पीढ़ियों को, उनके काल (Period) तथा प्रयुक्त तकनीकी को निम्न चार्ट में दर्शाया गया है-

क्र.पीढ़ीकालतकनीक
1.प्रथम पीढ़ीसन् 1946 से सन् 1956 तकवैक्यूम ट्यूब
2.दिवतियी पीढ़ीसन् 1956 से 1964 तकट्रांजिस्टर
3.तृतीय पीढ़ीसन् 1964 से 1970 तकIC Integrated Circuit
4.चतुर्थ पीढ़ीसन् 1970 से सन् 1985 तकVLSI
5.पंचम पीढ़ीसन् 1985 से अब तकULSIC with AL (Ultra Large Scate Integrated Circuit)

Generations Of Computer 1st to 5th (History Of Computer Development)


Frist Generation (प्रथम पीढ़ी)

सन् 1946 से सन् 1956 तक विकसित हुए कंप्यूटर्स को प्रथम पीढ़ी के कंप्यूटर्स के रूप में मान्यता मिली।

Generations Of Computer 1st to 5th

प्रारम्भ से सेना और अकादमिक (Academic) क्षेत्र में गणना यंत्रों को विकसित करने के लिए अमेरिका और यूरोपीय देशों की सरकारें सामने अयी । ENIAC, EDSAC और EDVAC की सफलता के साथ कंप्यूटर निर्माता और प्रयोक्ताओं के लिए एक वृहद व्यापार के दरवाजे खुल गए।

सन् 1946 में जे.पी. एकर्ट और जॉन मुचली ने एक कंप्यूटर बनाया जिसका नाम था एनिएक ENIEC – Electronic Numerical Lntegrator and Calculator) यह दुनिया का सबसे वृहद स्तर का जरनल पर्पज इलेक्ट्रॉनिक कंप्यूटर (General Purpose Electronic Computer) था।

गणितज्ञ जॉन वान न्यूमान (John Von Neumann) ने 1946 में Eckert, Mauchly तथा Goldstein and Burks के साथ मिलकर कंप्यूटर तैयार किया। जिसमे क्रियाओं के लिए निर्देशो के समूह प्रोग्राम को संग्रहित किया जा सकता था।

Read More Articles

>>मॉनिटर क्या है?

>>पर्सनल कंप्यूटर क्या होता है?

>>Input Device & Output Device क्या है?

>>Printer क्या है? प्रिंटर कितने प्रकार के होते हैं?

>>सॉफ्टवेयर क्या होते है?

>>Spreadsheet क्या होता हैं?

>>Computer FAT क्या है?

>>ऑप्टिक फाइबर केबल क्या होती है?

>>www क्या है?

इसके बाद नई क्रिया के लिए नया प्रोग्राम संग्रहित किया हा सकता था। सबसे पहला संग्रहित प्रोग्राम कंप्यूटर (Stored Program Computer) EDSAC सन् 1949 में तैयार हुआ।

Generations Of Computer 1st to 5th

Attributes Of the Frist Generation ( कंप्यूटर की प्रथम पीढ़ी के गुण)

  • पंच कार्ड से प्राप्त Data एवं Program को मैगनेटिक ड्रम पर संग्रहित किया जाता था।
  • प्रथम पीढ़ी के कंप्यूटर में दो भाषाओं का प्रयोग लिखने के लिए किया जाता था। इन भाषाओं के नाम 1. मशीनी भाषा (Machine Language) 2. असेंबली भाषा (Assembly Language).
  • कंप्यूटर सिस्टम में Input के लिए Output के लिए पंचकर्ड का यूज किया जाता था। इन पंच कार्डो में कि Processing Spped बहुत कम होती थी।
  • प्रथम पीढ़ी के कंप्यूटर का प्रयोग Commercial Computing जैसे वेतन, पत्र , Payroll, Building & Accounting के लिए किया जाता था क्योंकि उस समय कंप्यूटर बहुत ही मंहगे थे।

Second Generation (डिवतिय पीढ़ी)

Second Generation (डिवतिय पीढ़ी) के कंप्यूटर में वैक्यूम ट्यूब के स्थान पर ट्रांजिस्टर का प्रयोग होने से कंप्यूटर में एक नए युग का प्रारंभ हुआ।

Generations Of Computer 1st to 5th

ट्रांजिस्टर का आविष्कार सन् 1947ए William Shockley द्वारा किया गया था। ट्रांजिस्टर एक अर्ध चालक पदार्थ से बना होता है। इसका कार्य वैक्यूम ट्यूब के समान ही था लेकिन कार्य करने की गति अधिक थी।

Generations Of Computer 1st to 5th

वैक्यूम ट्यूब (Vaccum Tube) की अपेक्षा ट्रांजिस्टर का आकार छोटा था तथा Transistor Vaccum Tube की अपेक्षा अधिक विश्वसनीय था और लगातार विद्युत के संव हन से कम गरम होता था।

Second Generation (डिवतिय पीढ़ी) कंप्यूटर के गुण

  • पंच कार्ड के साथ साथ मैगनेटिक टेब तथा डिस्क का प्रयोग भी Secondary Storage के लिए होना शुरू हो गया।
  • मैग्नेटिक ड्रम के स्थान पर मैग्नेटिक कोर का प्रयोग अतिरिक्त मेमोरी में हुआ।
  • मशीनी तथा असेंबली भाषा की जटिलता को दूर करने के लिए सरल एवं उच्च स्तरीय भाषा (High Level Language) का विकाश हुआ। जैसे FORTRAN, COBOL, SNOBAL, ALGOL आदि।
  • दिवतिय प्रणाली के कंप्यूटर का प्रयोग वायुयानों के यांत्रियो के लिए आरक्षण प्रणाली तथा MIS ( Management Information System) में किया जाने लगा। इसके साथ साथ टेलस्टर (Telestar) सन 1962 में स्थापित किया गया। टेलस्तर एक संचार उपग्रह Communication Satellite) था।

Third Generation (तृतीय पीढ़ी)

सन् 1964 से सन् 1970 तक के कंप्यूटर्स को Third Generation (तृतीय पीढ़ी) में रखा गया। इस पीढ़ी के कंप्यूटर्स में ट्रांजिस्टर के स्थान पर Integrated Circuits का प्रयोग होने लगा था। एक IC में ट्रांजिस्टर, रजिस्टर और कैपेसिटर तीनों को ही समाहित कर लिया गया।

Generations Of Computer 1st to 5th

सन् 1938 में Texas Instrument Company के जे. एस. किल्वि ने सिलिकॉन के छोटे से चुप (Chip) पर एक ही Integrated Circuit बनाया।

सन् 1953 में हार्विच जॉनसन ने इस तकनीकी को MOSFET (Metal Semi -conductor or field Effect Transistor) के नाम से पेटेंट करा लिया। सन् 1966 में एक ही चिप पर हजारों ट्रांजिस्टर बना पाना संभव हो गया।

इस कारण कंप्यूटर्स का आकार पहले कि तुलना में अत्यंत छोटा हो गया । इस पीढ़ी के कंप्यूटर्स में video Display Unit का प्रयोग होने लगा। सी. पी.यू. का परिपथ एक छोटे से चिप पर मार्शन हॉफ ने इंटेल कार्पोरेशन में तैयार किया।

सन् 1970 में तैयार किए गए इस चिप का नाम इंटेल 4004 था और छोटे से चिप को माइक्रोप्रोससर कहा गया तथा जिन कंप्यूटर्स में माइक्रोप्रोससर का उपयोग किया गया उन्हें माइक्रो कंप्यूटर कहा गया।

Intel 8080 पर आधारित पहला माइक्रो कंप्यूटर अल्टेयर माइक्रो कंप्यूटर में बेसिक भाषा को install करने के लिए कहा। बिल गेट्स का प्रयास सफल रहा। इसके बाद बिल गेट्स ने अपनी कंपनी माइक्रोसॉफ्ट कार्पोरेशन की स्थापना की,जो आज दुनिया की सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर कंपनी है।

Third Generation (तृतीय पीढ़ी) के कंप्यूटर के गुण

  • कंप्यूटर श्रंखला या परिवार की विचारधारा का चलन इस पीढ़ी से प्रा रंभ हुआ।
  • कंप्यूटर की सभी क्रियाओं को नियंत्रित करने के लिए ऑपरेटिंग सिस्टम बनाया गया। इस ऑपरेटिंग सिस्टम से कंप्यूटर के सभी आंतरिक कार्य स्वचालित (Automatic) हो गए।
  • इस पीढ़ी के मुख्य कार्य कंप्यूटर्स IBM का System 1360 Line, DEC का (Digital Equipment Corporation) का Programble Data Processor -1 (PDP -1), PDP 5, PDP 8.
  • I.C. (Integrated Circuit) का प्रयोग आरंभ हो गया।
  • दिवतिय पीढ़ी के कंप्यूटर की अपेक्षा अधिक विश्वसनीय ।
  • उच्च स्तरीय प्रोग्रामिंग भाषाओं का प्रयोग किया जाने लगा ।
  • Third Generation (तृतीय पीढ़ी) के कंप्यूटर का रख रखाव आसान हो गया ।
  • दिवतिय पीढ़ी की अपेक्षा वहां व आकार काम हो गया ।
  • Secondary storage की क्षमता बढ़ गई।

Fourth Generation (चतुर्थ पीढ़ी)

सन् 1970 से लेकर 1985 तक के कंप्यूटर्स को चतुर्थ पीढ़ी के कंप्यूटर्स में रखा गया। LSI (Large Scale Integration) और फिर 1975 में VLSI (Very Large Scale Integration) चिप के निर्माण की पूरी Control Processing Unit का एक ही चिप पर ए पाना संभव हो गया।

यह चिप अंगुली के नाखून के आकार की होती है। कंप्यूटर के सम्पूर्ण चिप तृतीय पीढ़ी के कंप्यूटर भाषाओं में कार्य करने से सरल था।

Fourth Generation (चतुर्थ पीढ़ी) कंप्यूटर्स के गुण ( Attributes Of the Fourth Generation)

  • चतुर्थ पीढ़ी में कंप्यूटर्स के आकार को न्यूनतम किया गया। आई. सी. छोटे से छोटे , गति में तेज और सस्ते लिए गए। एक छोटे से चिप पर लाखो परिपथ (Circuits) का निर्माण किया गया।
  • पूर्व की पीढ़ी में प्रयुक्त कोर मेमोरी के स्थान पर अब समी कंडक्टर मेमोरी का प्रयोग होने लगा।
  • इस पीढ़ी के स्प्रेडशित एप्लिकेशन, जेनरेटर, डाटाबेस का कार्य करने वाले सॉफ्टवेयर तैयार हुए। इनमे कार्य करना BASIC, COBOL, FORTRAN आदि तृतीय पीढ़ी के कंप्यूटर भाषाओं में कार्य करना सरल था।

Fifth Generation (पंचम पीढ़ी)

सन् 1985 के बाद के कंप्यूटर्स को Fifth Generation (पंचम पीढ़ी) में रखा गया है। इन कंप्यूटर्स में मानव सदृश गुणों को समाहित करने का प्रयास किया गया।

जापानी वैज्ञानिकों ने इन कंप्यूटर्स के विकास की अपनी योजना का नाम नॉलेज इंफॉर्मेशन प्रोसेसिंग सिस्टम किप्स (Knowledge Information Processing System – KIPS) रखा गया है। इस पीढ़ी के कंप्यूटर्स अभी भी विकसित स्थिति में है।

Generations Of Computer 1st to 5th

Fifth Generation (पंचम पीढ़ी) के इन कंप्यूटर्स में क्रात्रिम बुद्धिमत्ता (Artificial Intelligence) का प्रयोग करने का प्रयास किया जा रहा है। इनसे वॉइस Recognition एवं इमेज Control का कार्य अत्यंत दक्षता और तीव्र गति से किया जाना संभव हो सकेगा।

Fifth Generation (पंचम पीढ़ी) के कंप्यूटर्स के गुण (Attributes Of the Fifth Generation)

  • पांचवी पीढ़ी में आवश्यकतानुसार कंप्यूटर के आकार और संरचना को तैयार किया जाता है। आजकल विभिन्न मॉडलों के कंप्यूटर उपलब्ध है जैसे डेस्कटॉप, लैपटॉप, पामटोप आदि।
  • पांचवी पीढ़ी में मल्टीमीडिया का विकास हुआ है मल्टीमीडिया ध्वनि, दृश्य या Text का सम्मिलित रूप होता हैं।
  • इंटरनेट के द्वारा हैं कहीं से भी स्वास्थ्य चिकित्सा, विज्ञान, कला एवं सस्कृति आदि सभी विषयों पर विविध सामग्री प्राप्त कर सकते है।

Read More Articles:

कंप्यूटर की मुख्य विशेषताएं?

कंप्युटर कितने प्रकार के होते हैं?

कंप्यूटर का फूल फार्म?

सी. पी. यू. का फूल फार्म क्या है?

>>कंप्यूटर मेमोरी क्या है? मेमोरी के प्रकार?

>>Volatile Memory क्या होती हैं?

>>कंप्यूटर में Booting Process क्या होती है?

>>कंप्यूटर क्या है? कंप्यूटर का विभिन्न क्षेत्रों में उपयोग क्या है?

>>ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है?

>>मॉडम क्या होता है?

>>कम्युनिकेशन प्रोसेस क्या होती है ? इसके प्रकार और उदाहरण?

>>प्रोटोकॉल किसे कहते है? इसके कार्य और प्रकार ?

>>नंबर सिस्टम क्या होता हैं? बाइनरी नंबर सिस्टम इन हिंदी


आपको हमारे इस आर्टिकल कंप्यूटर के विकास का इतिहास । Generations Of Computer 1st to 5th (History Of Computer Development) में दी गई जानकारी कैसी लगी हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके जरूर बताए और इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा अपने दोस्तो तक शेयर करे।

Leave a Reply