CBI Ka Full Form? What Is The Full Form Of CBI – सीबीआई ऑफिसर कैसे बने?2021

Spread the love

भारत के कई युवाओं का सपना सीबीआई ऑफिसर बनने का होता है। सीबीआई जांच एजेंसी को जनता में काफी लोकप्रिय माना जाता है। आज भारत के जायदातर युवा वर्ग सीबीआई ऑफिसर बनना चाहता है लेकिन उन्हें सीबीआई ऑफिसर कैसे बने? सीबीआई ऑफिस क्या होता है? CBI ka Full Form क्या होता है? सीबीआई की सैलरी, सीबीआई ऑफसर के कार्यों के बारे में जानकारी नहीं है।

आज इस आर्टिकल हम सीबीआई का फुल फॉर्म क्या है? सीबीआई कैसे बने? सीबीआई की भर्ती कैसे होती है? Cbi meaning in hindi, सीबीआई का क्या काम होता है? और सीबीआई की पूरी जानकारी बताने वाले है।

यदि आप भी सीबीआई ऑफिसर बनना चाहते है और सीबीआई से जुड़ी जानकारी ढूंढ रहे है तो आप बिल्कुल सभी जगर आए है। इस आर्टिकल में आपको cbi से जुड़ी पूरी जानकारी जानने को मिलेगी। तो चलिए बिना देरी करे हमारे इस आर्टिकल सीबीआई का फुल फॉर्म? What Is The Full Form Of CBI? सीबीआई ऑफिसर कैसे बने 2021 में? शुरू करते है।

What is the full form of CBI

सीबीआई का फुल फॉर्म? What Is The Full Form Of CBI?

C B I की स्थापना 1 अप्रैल 1963 में हुई थी। सीबीआई भारत की सबसे बड़ी जांच एजेंसी है। जो पूरी उधम, निष्पक्षता एवं ईमानदारी से Investigation करती है।

अधिनियम की धारा 5 के तहत केंद्र सरकार के निर्दिष्ट अपराधों की जांच करने के लिए इस सीबीआई एजेंसी की स्थापना की गई है। तो चलिए जानते है क्या है सीबीआई का फुल फॉर्म?

CBI Ka Full Form In English

C B I full form – Central Bureau Of Investigation (सेंट्रल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन)

CBI Ka Full Form in Hindi

Full Form of CBI in Hindi/ सीबीआई का फुल फॉर्म हिंदी में – केन्द्रीय जांच एजेंसी या केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो।

Central Bureau Of Investigation का संक्षिप्त नाम C B I है इसे हम इस प्रकार से भी लिख सकते है

What Is full form CBI Hindi & English

  • C (सी) – Central (केंद्रीय)
  • B (बी) – Bureau of ( जांच )
  • I (आई)- Investigation ( एजेंसी )

What Is CBI and CBI Meaning (सीबीआई क्या है और सीबीआई का मतलब क्या होता है)

Central Bureau Of Investigation- केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) भारत की प्रमुख जांच एजेंसी है, जो राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर होने वाले अपराधों और पेंशन मंत्रालय (भारत) के अधिकार क्षेत्र के अंतर्गत, मूल रूप से रिश्वतखोरी और सरकारी भ्रष्टाचार की जांच करने के लिए 1 अप्रैल 1963 में स्थापित किया गया था।

1965 में सीबीआई को भारत सरकार, बहु-राज्य द्वारा लागू केंद्रीय के उल्लंघनों की जांच के लिए विस्तारित क्षेत्राधिकार प्राप्त हुआ। जैसे संगठित अपराध, बहु-एजेंसी या अंतर्राष्ट्रीय मामले। फिर एजेंसी को कई आर्थिक अपराधों, विशेष अपराधों, भ्रष्टाचार के मामलों सोपे जाने लगे और सीबीआई को अन्य मामलों की जांच करने के लिए जाना जाता है। CBI को सूचना का अधिकार अधिनियम 5 के प्रावधानों से छूट प्राप्त है।

आज के समय में जितनी तेजी से जनसंख्या बढ रही है उतनी ही तेजी से अपराधों, दुर्घटनाओं में वृद्धि देखने को मिल रही है। हम प्रतिदिन Newspaper, TV Channels पर लूटपाट, हत्या, भ्रष्टाचार, रोड एक्सीडेंट के बारे में पढ़ते-सुनते हैं। पिछले कुछ सालों में अपराधों में तेजी से बढ़ोतरी हो रही है और ये दुनिया भर में है।

ऐसे अपराधों को जड़ खत्म करने के लिए भारत देश की सरकार खूब प्रयास कर रही है और इनसे सुरक्षा के लिए कई तरह के विभाग, संस्था बनाये गए हैं। उन्हीं में से, Central Bureau Of Investigation एक है।

सीबीआई का इतिहास

शुरुवात में घरेलू सुरक्षा का प्रबंधन करने के लिए विशेष पुलिस प्रतिष्ठान के रूप में 1941 में स्थापित किया गया था लेकिन कुछ साल बाद 1 अप्रैल 1963 को इसका नाम बदलकर CBI कर दिया गया। CBI के पहले निदेशक डी.पी. कोहली।

1965 में सीबीआई आर्थिक अपराधों की जांच और हत्या, अपहरण और आतंकवाद से संबंधित अपराधों जैसे पारंपरिक अपराधों के लिए कुछ और जिम्मेदारियां सौंपी गईं। 1987 में, यह निर्णय लिया गया कि CBI, भ्रष्टाचार-निरोधी प्रभाग और विशेष अपराध प्रभागों में दो अलग-अलग जाँच प्रभाग होंगे।

D.P. Kohli (सीबीआई के संस्थापक) के बारे में

सीबीआई के संस्थापक, निदेशक डी.पी. कोहली थे, जिन्होंने 1 अप्रैल 1963 से 31 मई 1968 तक कार्यालय का कार्यभार संभाला था।

इससे पहले कोहली 1955 से 1963 तक विशेष पुलिस स्थापना के लिए पुलिस महानिरीक्षक थे और मध्य में कानून-प्रवर्तन पदों पर रहे। भारत (पुलिस प्रमुख के रूप में), उत्तर प्रदेश और स्थानीय केंद्र सरकार के कार्यालय। प्रतिष्ठित सेवा के लिए, कोहली को 1967 में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था।

कोहली ने विशेष पुलिस प्रतिष्ठान में एक राष्ट्रीय जांच एजेंसी के रूप में विकसित होने की क्षमता देखी। उन्होंने अपने लंबे करियर के दौरान इंस्पेक्टर जनरल और डायरेक्टर के रूप में संगठन का पोषण किया और उस नींव को रखा जिस पर एजेंसी आज खड़ी है।

सीबीआई के पद (Rank In CBI)

  • Director.
  • Special Director.
  • Joint Director.
  • Additional Director.
  • Deputy Inspector.
  • Central of Police.
  • Senior Superintendent Of Police.
  • Superintendent of Police.
  • Additional Superintendent of Police.
  • Inspector.
  • Assistant Sub. Inspector.
  • Sub. Inspector.
  • Head Constable.
  • Comstable.

सीबीआई का क्या काम होता है

दोस्तो सरकार ने सीबीआई ऑफिसर को विभिन्न मामले में जांच करने की शक्तियां दि है। सीबीआई ऑफिसर को अनेक तरह के कार्य करने पड़ते है। उनमें से कुछ इस प्रकार है

1. सख्त कदम उठाकर आतंकवाद पर नियंत्रण रखना।

2. भारत में और कभी-कभी भारत के बाहर भी सभी प्रकार के अपराध की जाँच करना।

3. वित्तीय धोखाधड़ी के मामलों को संभालना और जांच करना।

4. किसी भी राज्य के पुलिस विभाग के अनसुलझे मामलों को सुलझाना।

5. भ्रष्टाचार से लड़ने में पुलिस बलों को नेतृत्व और दिशा प्रदान करें।

सीबीआई जांच क्या है

भारत सरकार की रक्षा से संबंधित गंभीर अपराधों, उच्च पदों पर भ्रष्टाचार, गंभीर धोखाधड़ी, और गबन और सामाजिक अपराध, विशेषकर जमाखोरी, अखिल भारतीय और अंतर-राज्यीय प्रभाव वाले, आवश्यक वस्तुओं में काला-बाजारी और मुनाफाखोरी की जाँच के लिए भारत सरकार द्वारा Central Bureau Of Investigation (केंद्रीय जांच ब्यूरो) की स्थापना की गई थी।

सीबीआई, DSPE अधिनियम, 1946 से अपराध की जांच करने के लिए अपनी कानूनी शक्तियां प्राप्त करती है। सीबीआई एजेंसी किसी राज्य की सरकार की सहमति के बिना किसी भी क्षेत्र में अपनी शक्तियों और अधिकार क्षेत्र का उपयोग नहीं कर सकती है।

इसका मतलब यदि किसी राज्य में किसी मामले में उसे जांच करनी है तो उसे सम्बंधित राज्य सरकार की विशिष्ट अथवा सामान्य स्वीकृति की आवश्यकता होगी। यह एजेंसी संसद सदस्य की भी जांच कर सकती है। ज्यादातर मामलों में, राज्यों ने केवल केंद्र सरकार के कर्मचारियों के खिलाफ सीबीआई जांच के लिए सहमति दी है।

इन्हें भी पढ़ें

आईएएस ऑफिसर कैसे बने?

SDM कैसे बने?

Vip और vvip का फुल फॉर्म क्या होता है?

सीबीआई में जॉब कैसे पाए (सीबीआई ऑफिसर कैसे बने)

सीबीआई में रिक्तियों को भरने के लिए दो अलग-अलग एजेंसियां परीक्षाओं का आयोजन करती हैं, पहली एजेंसी हैं यूपीएससी (UPSC) और दूसरी एजेंसी एसएससी (SSC CGL)। सीबीआई में ग्रुप-ए ऑफिसर बनने के लिए, आपको यूपीएससी द्वारा आयोजित सिविल सेवा परीक्षा पास करके आईपीएस (IPS) ऑफिसर बनना होगा। सीबीआई में सब-इंसपेक्टर बनने के लिए, आपको SSC CGL परीक्षा देनी होगी।

सीबीआई ऑफिसर की चयन प्रक्रिया

सीबीआई के उम्मीदवार का चयन प्रक्रिया SSC CGL में लिखित परीक्षा और साक्षात्कार के आधार पर होती है। जो इसप्रकार होती है

# Stap. 1

इस स्टेप में आपको 200 marks के 100 Objective question के जवाब देने होंगे जिनके जवाब देने के लिए आपके पास 2 घंटे का समय होगा।

Types of objective question:

  • सामान्य बुद्धि और तर्क (General Intelligence And Reasoning) 50 अंक।
  • सामान्य जागरूकता (General Awareness) 50 अंक।
  • मात्रात्मक योग्यता (Quantitative Aptitude) 50 अंक।
  • अंग्रेजी (English) 50 अंक।

# Step. 2

इस चरण में 400 Marks के 2 एग्जाम होंगे और दोनों एग्जाम के लिए 2 -2 घंटे का समय होगा। फर्स्ट वाले पेपर में 200 अंकों के Quantitative Eligibility के 100 ऑब्जेक्टिव सवाल पूछे जाते हैं और सेकंड पेपर में अंग्रेजी के ऑब्जेक्टिव प्रश्न पूछे जाते हैं।

# Step. 3

इस स्टेप में पुरूष उम्मीदवार का personality test और descriptive written test लिया जाता है।

# Step. 4

इस स्टेप में उम्मीदवार का कंप्यूटर प्रवीणता परीक्षा (Computer proficiency test) और दस्तावेज (Document verification) होता है।

साक्षात्कार (Interview)

सीबीआई उम्मीदवार की चयन प्रक्रिया के अंतिम चरण में उम्मीदवार का इंटरव्यू लिया जाता है जिसमें अभ्यर्थी के व्यक्तित्व और मानसिक क्षमता का आकलन किया जाता है।

साक्षात्कार में पास होने वाले कैंडिडेट की अंतिम सूची तैयार की जाती है और उच्च रैंक पाने वाले उम्मीदवार को सीबीआई में चुन लिया जाता है।

SSC CGL द्वारा सीबीआई बनने की योग्यता

SSC CGL द्वारा एप्लीकेशन फॉर्म भरने के लिए CBI में सब इंस्पेक्टर की योग्यता जानना किसी भी उम्मीदवार के लिए सबसे महत्वपूर्ण है। इसलिए हम सीबीआई जांच ब्यूरो में उप निरीक्षक के फॉर्म भरने लिए योग्यता के बारे में जानेंगेे।

शैक्षणिक योग्यता उम्मीदवार किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय / संस्थान से स्नातक की डिग्री प्राप्त कर रहे हैं, तो वे इस पद के लिए आवेदन कर सकते हैं।

आयु सीमा (Age Limit) कर्मचारी चयन आयोग कंबाइंड ग्रेजुएट लेवल सब इंस्पेक्टर CBI के पद के लिए आयु सीमा 20 से 30 वर्ष के बीच है।

शारीरिक योग्यता

यह अनिवार्य है कि सभी उम्मीदवारों को शारीरिक रूप से फिट होना चाहिए क्योंकि पीएच / शारीरिक रूप से अनफिट उम्मीदवार सीबीआई पोस्ट में सब इंस्पेक्टर के लिए उपयुक्त नहीं हैं। नीचे, हम केंद्रीय जांच ब्यूरो में उप निरीक्षक के पद के लिए शारीरिक मानक पात्रता मानदंड प्रदान कर रहे हैं।

शारीरिक परीक्षण

ऊंचाई (Hight) पुरुषों के लिए – 165 सेमी। महिलाओं के लिए – 150 सेमी। हिल्समैन और ट्राइबल्स के लिए ऊंचाई में छूट – 5 सेमी।

छाती (chest)

76 से.मी. विस्तार के साथ (महिला उम्मीदवारों के मामले में ऐसी कोई आवश्यकता नहीं होगी)

दृष्टि

नेत्र-दृष्टि (चश्मे के साथ या बिना) दूर दृष्टि: एक में 6/6 और दूसरी आंख में 6/99 निकट दृष्टि: एक आंख में 6 और दूसरी आंख में 0.8

CBI Contact Details

 Name – Central Bureau of Investigation

 Address – Plot No. 5-B, CGO Complex, Lodhi Road, New Delhi – 110003

 Contact No. – 011-24302700, 011-24362755

 Website – http://cbi.gov.in/

 email – information@cbi.gov.in

सीबीआई का मुख्यालय कहां है? (Where is the headquarters of CBI)

सीबीआई का मुख्यालय नई दिल्ली में ।

नई दिल्ली भारत की राजधानी है और एनसीटी दिल्ली का एक प्रशासनिक जिला है। नई दिल्ली, भारत सरकार की तीनों शाखाओं, राष्ट्रपति भवन, संसद भवन और भारत के सर्वोच्च न्यायालय की मेजबानी की भी सीट है।

सीबीआई की खास बातें 

सीबीआई डायरेक्टर इंस्पेक्टर रैंक से ऊपर के अधिकारियों जैसे DSP, SSP, SP, DIG, IG और अडिशनल डायरेक्टर को खुद ट्रांसफर नहीं कर सकता है।


सीबीआई DOPT यानी डिपार्टमेंट ऑफ पर्सनल ट्रेनिंग (कार्मिक प्रशिक्षण) विभाग के प्रशासकीय नियंत्रण के अधीन है। डीओपीटी आईएएस अधिकारियों की काडर कंट्रोलिंग अथॉरिटी है। यह रोचक बात है कि सीबीआई में एक भी आईएएस अधिकारी नहीं होता फिर यह DOPT के अधीन है।

सीबीआई ऑफिसर की कोई खास वर्दी नहीं होती है।

सीबीआई ऑफिसर की सैलरी (CBI Officer Salary)

सब इंस्पेक्टर या CBI Officer Ki Salary पे स्केल के हिसाब 9300-34800 रूपये है जबकि 4200 रूपये का ग्रेड पे और अन्य भत्ते मिलते है। वर्तमान वेतनमान के अनुसार, आपको शुरू में लगभग 44,000 ₹/- का वेतन मिलेगा (पोस्टिंग के स्थान के अनुसार वेतन थोड़ा भिन्न हो सकता है)।

सीबीआई अधिकारी बनने के लाभ (Advantages as a CBI Officer)

1. सीबीआई युवा और उत्साही उम्मीदवारों के लिए एक महान और सम्मानजनक कैरियर प्रदान करता है।

2. इसमें उबाऊ कार्यालय का काम शामिल नहीं है। सीपीआई कि सर्विस करते समय आपको कई नई चीजें सीखने को मिलेंगी।

3. CBI में Sub. Inspector का पद SSC CGL के सभी पदों में सबसे अधिक वेतन वाला होता है।

4. सीबीआई विशेष रूप से व्यवसायियों, सरकारी अधिकारियों, बैंको आदि के बीच समाज में सबसे शक्तिशाली और प्रतिष्ठित नौकरी है।

सीबीआई ऑफिसर बनने के गुण (Qualities to Become a CBI Officer)

CBI Join करनें वाले उम्मीदवारों के पास विषम परिस्थितयों से निपटनें के लियें कुछ विशेष क्षमताओं का होना अनिवार्य है

जैसे

  • तीव्र, विश्लेषणात्मक मन (Sharp, Analytical Mind)
  • शारीरिक फिटनेस (Physical Fitness)
  • सहनशीलता (Tolerance)
  • मानसिक सतर्कता ( Mental Alertness)
  • एकाग्रता का उच्च स्तर (Hing Level of Concertration)
  • अवलोकन की उत्सुक शक्तियां (Keen Powers of Observation)
  • तर्कसंगत और विश्लेषणात्मक सोचनें की क्षमता (Ability to Think logically and analytically)
  • लम्बी यात्रा करनें की शक्ति (Power to Travel Long ability to make.
  • लंबे तथा अनियमित कार्य को समय के अनुकूल कार्य करनें  की योग्यता ( Long and Irregular work in a time appreciate manner)
  • दूरस्थ और खतरनाक क्षेत्रों में कार्य करनें की क्षमता ( Ability to work in remote and dangerous areas.

इन्हें भी पढ़े

India का फुल फॉर्म

BA का फुल फॉर्म

CPU का फुल फॉर्म

कंप्यूटर का फुल फॉर्म

Ok का फुल फॉर्म

AM और PM का फुल फॉर्म

एलपीजी का फुल फॉर्म

सीएनजी का फुल फॉर्म

दोस्तो आपको हमारे इस आर्टिकल में दि गई जानकारी कैसी लगी हमे अपने विचार जरूर बताए। यदि आपका इस आर्टिकल के किसी भी टॉपिक पर कोई सवाल है तो हमे कमेंट करे हम आपके सभी सवालों के जवाब देने की पूरी कोशिश करेंगे। इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा सोशल मीडिया में शेयर करे।

सीबीआई का फुल फॉर्म? What Is The Full Form Of CBI?

Add a Comment